मंगलवार, 4 जून 2013

हांफ रही है पूंजी

तश्वीर गूगल से साभार  


















बहुत तेजी से भागती है पूंजी 
मानो वक्त से आगे निकल जाना हो इसे 
मानो अपनी मुट्ठी में दबोच लेना हो 
समूचा ब्रह्माण्ड समूची धरती, 
खेत, नदियाँ और पहाड़ 
बच्चों की किलकारियां, 
मजदूरों का पसीना, 
किसानों का श्रम, 
मेहनतकशों के हकूक,
आज़ादाना नारे, 
और वह सब कुछ जो उसकी रफ़्तार के आड़े आता हो 
वह बढ़ाना चाहती है अपनी रफ़्तार प्रतिपल 
लेकिन बहुत जल्दी हांफने लगती है पूंजी  

और जब पूंजी हांफने लगती है  
तब खेतों में अनाज की जगह बन्दुकें उगाई जाती है 
भूख के जवाब में हथियार पेश किये जाते हैं
परमाणु, रासायनिक और जैविक 

पूंजी पैदा करती है दुनियां के कोने-कोने में रोज नए  
भारत-पकिस्तान 
त्तर-दक्षिण कोरिया 
चीन-जापान 
इसराइल-फिलिस्तीन 

फिर हंसती है दोनों हाँथ जंघों पर ढोंक कर 
सोवियत संघ के अंजाम पर 
अफगानिस्तान पर 
ईराक पर 
मिश्र पर 

अपनी हंसी खुद दबाकर
बगलें झांकती है 
पूंजी
वेनुजुवेला और क्यूबा के सवाल पर 

दम फूल रहा है प्रतिपल  
हांफ रही है पूंजी 
और खेतों में अनाज की जगह उग रहीं हैं बन्दुकें 


पूंजी आत्मघाती हो रही है दिन-ब-दिन 

--------------------------------------------------------------
सुशील कुमार 
दिल्ली,
जून 5, 2013

1 टिप्पणी:

  1. वाह बेहद खूबसूरत रचना , सुंदर शब्दों से सजी हुई पंक्तियों का चयन । अच्छा लगा पढकर

    उत्तर देंहटाएं