मंगलवार, 20 अक्तूबर 2015

तुम्हारी ऊँगली पकड़कर






















तुम्हारे हाथों से पैदा हुए 
कोयला खदानों पर भागते-दौड़ते बच्चे
जब तुम्हें चाची कह कर पुकारते होंगे
पूरे कोयलांचल की कालिमा
तुम्हारे मातृत्व-भाव से लाल हो जाती होगी

घर से ड्यूटी रूम का फासला 
तुम्हारे घुटने के दर्द को नापने का पैमाना रहा है
घर पर बच्चों को छोड़
जब तुम मरीज के घाव पोंछती हो
तुम्हारे पिछले किरदार की माँ भी तुममें शामिल होती है

रोगियों के खान-पान का हिसाब 
सिस्टर थॉमस को देते समय 
अंग्रेजी में तुम 'ब्रेड' नहीं लिख पाती 
लेकिन किसी रोगी को अंग्रेजी में लिखी दवाईयां देने में
आज तक तुमसे कोई गलती नहीं हुई 

एक बराबर गोल-गोल अक्षरों को मिलाकर
जब तुम्हारा हस्ताक्षर पूरा होता है
तो यह पढ़ने में "गीता लाल" नहीं लगता
शिलापट्ट में दर्ज़ कोई संघर्ष-गाथा लगता है

सोचता हूँ, अगर तुमने पिता को 
नून, तेल, लकड़ी से आज़ाद नहीं किया होता 
तो साम्यवादी आन्दोलन को 
आखरी साँस तक लड़ने वाला कोमरेड बद्री मिला होता 
तुम्हारा ड्यूटी रूम और पिता का पार्टी ऑफिस 
त्याग और संघर्ष के शिक्षालय हैं

तुम्हारी कड़कमिज़ाजी नाते-रिश्तेदारों की
फुसफुसाहटों का केन्द्रीय विषय रही
लेकिन तुम बेपरवाह पिता की गैरमौजूदगी में
घर का अनुशासन संभालती रही
तुमने उतनी ही व्यवहार कुशलता अपनाई
जितनी समाज में एक स्त्री को मर्द बने रहने के लिए चाहिए
तुम अपने नाखूनों को नुकीला कर
शेरनी बन जाती थी और चीर देती थी बीचों-बीच 
हमारी ओर उठी हर बुरी नज़र को

खदानों में फटने वाले डायनामाईट सी 
तुम्हारी दहाड़ से कोयलांचल थर्रा उठता था
लेकिन विश्वकर्मा पूजा के दिन
जब मुझे लहुलुहान
तुम्हारे स्वस्थ्य केंद्र में लाया गया था
सिर्फ उसी दिन पहली बार देखा था
तुम चुप हो गई थी, बिलकुल चुप

व्यंग भरी निगाहों
और बहलाती-फुसलाती सहानुभूतियों के बीच
सिर पर ऐप्रन पहने
तुम समय पर ड्यूटी करती रही रोजाना
और इस तरह ड्यूटी रूम में टंगी घड़ी में
तुम बीतती रही दिन--दिन 

घर की जिन सीढियों पर
तुम्हारे पांव फिसल गए थे
तुम्हारी ऊँगली पकड़कर
मुझे उन सीढ़ियों पर चढ़ते हुए छत पर जाना है
देखना है
तुम्हारे खून की तराई से बने घर की छत से
कैसा दिखता है राष्ट्रीय राजमार्ग तैंतीस
घर के पीछे का हरा पठारी जंगल
ईंट के भट्ठे और चिमनियाँ

जहाँ से तुमने लडाई शुरू की
तुम्हारी ऊँगली पकड़कर
एक बार कोलियरी के उन खदानों में चलना है
जहाँ संघर्ष की परिणति में
कोयला हीरा बन जाता है 

----------------------------------
सुशील कुमार 
दिल्ली, 21, जुलाई 2014

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें