सोमवार, 26 दिसंबर 2011

फलसफा

लबों पर इलज़ाम लगे हैं, खामोश रह जाने के लिए
मुजरिम अल्फ़ाज भी हैं, साथ न निभाने के लिए
है कहाँ मुमकिन बयान-ए-बेकरारी
ये फलसफा तो है बस समझ जाने के लिए

 ----------------------------------------------
सुशील कुमार
26 दिसम्बर, 2011
दिल्ली    

2 टिप्‍पणियां:

  1. खूबसरत कलेवर वाला एक प्रभावित करने वाला ब्लॉग सुशील जी । आज का ये कोहिनूर लिए जा रहा हूं बुलेटिन के लिए । आभार

    उत्तर देंहटाएं